सनातनी बनो , भारतीय बनो ||

संसार का सबसे घातक अस्त्र माता पिता का दिया श्राप होता है |

संसार का सबसे बड़ा घाव बच्चो के प्रति माँ पिता का रुष्ठ व्यवहार होता है |

संसार का सबसे बड़ा दुःख पिता के काँधे पर पुत्र,पुत्री के शव का भार होता है |

संसार का सबसे अधिक विष वाला जीव धोखेबाज जीवनसाथी होता है |

संसार के सबसे बड़े घोषित शत्रु से कंही अधिक घातक मौकापरस्त मित्र होता है |

संसार में धन के बाद सबसे अधिक काम आने वाली वस्तु लकड़ी है |

संसार का सबसे बड़ा सत्ययुक्त दृश्य दर्पण में दिखाई देता है |

संसार में सबसे अधिक ज्ञान वेदों से प्राप्त होता है |

संसार में सबसे अधिक अज्ञान भौतिकतावादी जीवन से प्राप्त होता है |

संसार में सबसे अधिक प्रेम और शत्रुता निभाने वाला जीव मनुष्य है |

संसार में सबसे अधिक पवित्र और प्राचीन धर्म एकमात्र सनातन धर्म है |

मुझे गर्व है की मैं सनातनी हूँ , भारतीय हूँ , अपने पूर्वजो की परम्पराओं का मानको का पालनकर्ता हूँ ||

Advertisements
Tagged with:
Posted in Life Lessons, Sanatan/Hindu Life, Sanatan/Hindu Mythology

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: