महर्षि चरक ने सुझाए है सदाचार के ३१ तरीके.

सदाचार को मानव स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक मानते हुए महान आयुर्वेदाचार्य महर्षि चरक ने अपनी विभिन्न विवेचनाओ में इसके लिए ३१ उपाए सुझाए है, इन सब पर अमल सदाचार को जीवन में सुनिष्चित करता है ये उपाय इस प्रकार है:-
१. कभी असत्य न बोलो.
२.पर स्त्री की अभिलाषा न करे.
३.किसी अन्य के धन की इच्छा न करे.
४.किसी से भी शत्रुता की इच्छा न रखें
५.कभी पाप कर्म न करें
६.दुसरो के दोष दुर्गुणों का बखान न करें
७.किसी की भी गुप्त बात को प्रगट न करें
८.कभी भी अधर्मपथ पर न चले
९.राजद्रोही के साथ न बैठे
१०.सहासीत – उन्मत ,पतित ,भ्रूण हत्यारे,एवं दुष्ट का संग न करे.
११. पाय वृत्ति वाले मित्र, स्त्री एवं भृत्य का ग्रहण न करे.
१२. धार्मिक लोगो का विरोध न करें
१३.नीचो का संग छोड़ दे
१४.जीभ से कटु वचन न कहे
१५.अनार्य पुरुष का आश्रय न ले
१६.निद्रा,जागरण,स्नान,दान,खान पान से बचे.
१७.समय एवं मर्यादा का उल्लंघन न करे
१८.गुप्त बातें प्रकट न करें.
१९.ज्यादा बकवास न करे
२०.बालक ,वृद्ध लोभी, मुर्ख, क्रूर एवं नपुंसक के साथ मैत्री न करे
२१.शराब,जुआ,वेश्यागमन में रूचि न लें
२२.अधीर एवं अस्थिर चित्त न हो
२३.अपना ही सुख न चाहे
२४.हर एक पर विश्वाश न करे
२५.हर एक को शंका की दृष्टि से न देखे
२६.काम को न टाले
२७.अपरचित जल थल में प्रवेश न करें
२८.दीर्घ सूत्री न बने
२९.वीर्यशक्ति नष्ट न करे
३०.अपनी निंदा (अपमान) का स्मरण न करें
३१.सफलता में गर्व तथा असफलता में दीनता न दिखाए

Advertisements
Tagged with: , , , ,
Posted in Ancient Hindu Science, Life Lessons, Meri mitti ki kushbu ( Mera desh) (Mera Bharat), Ojasiv Bharat, Sanatan/Hindu Life

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: